Display bannar

Breaking News

कही आपके भी जीवन मे कष्ट की वजह ये तो नहीं... जाने वास्तुशास्त्र के उपाय

वास्तु शास्त्र कलह से सुलह तक वास्तु शास्त्र ज्ञान विज्ञान व क्रियात्मक कार्य की वह विद्या है जो मनुष्य को सुख शांति व समृद्धि प्रदान करती है| यह विद्या जीवन के प्रत्येक क्षेत्र की सभी आवश्यकताओं की पूर्ति करती है| चाहे वह परिवार, व्यापार, धर्म ,अर्थ ,काम या मोक्ष की प्राप्ति हो| हर इंसान बहुत मुश्किल से अपना घर बनाता है, किंतु वास्तु की पूरी जानकारी के अभाव में वह अपनी सुविधानुसार बना लेता है जिस कारणवश घर में नकारात्मक ऊर्जा बनना शुरू हो जाती है| प्रारंभ में तो उसे इस बात का आभास नहीं होता किंतु धीरे-धीरे घर, घर न बन कर नर्क बन जाता है| 

आए दिन कलह, यह वित्तीय संकट, बीमारी, दुर्घटना, चोरी, विवाद आदि उत्पन्न हो जाता है, किंतु यदि हम थोड़ी सतर्कता बरतें तो और वास्तु अनुसार कुछ नियमों का पालन करें तो स्वर्ग की अनुभूति होती है| सर्वप्रथम घर के मुखिया का शयन कक्ष नैऋत्य कोण (दक्षिण-पश्चिम) में होने से मुखिया का दिमाग शांत एवं स्वस्थ रहता है| शयनकक्ष की दक्षिण पश्चिम दीवार में कुछ वास्तु चित्र लगाने से पति-पत्नी में एक दूसरे के लिए प्यार एवं आदर का भाव उत्पन्न होता है| शयनकक्ष में शीशा इस तरह लगाएं कि सोते समय सोने वाले का प्रतिबिंब ना दिखे एवं शिक्षा दक्षिण दीवार में कदापि न लगाएं। शयन कक्ष का रंग गुलाबी रखें और लव बर्ड जैसे सुंदर प्रतिमाओं से सुसज्जित करें| राधा कृष्ण का चित्र शुभ फल देता है, किंतु किसी अन्य देवता का चित्र शयनकक्ष में लगाना वर्जित है| सोते समय हमारा सिर दक्षिण या पूर्व की ओर होना सर्वश्रेष्ठ है। 

दीप्ति जैन, वास्तु विशेषज्ञ
वंश वृद्धि के लिए भी कुछ फेंगशुई के कियोर्स लगाए जा सकते हैं| फेंगशुई के अनुसार बनाए गए चित्र दांपत्य जीवन को सुखद बनाता है| शयनकक्ष की बालकनी में पियोनिया का फूल लगाएं| फूल लगाने की जगह न हो तो पियोनिया का चित्र भी लगाया जा सकता है। क्रिस्टल बॉल का जोड़ा भी विवाह क्षेत्र में लगाने से दापंत्य जीवन सुखद होता है| अरोमा कैंडल या अरोमा स्टिक का प्रयोग करें उचित अरोमा जीवन में खुशियां लाता है। शयनकक्ष में एक्वेरियम कभी ना रखें। पानी के झरने का चित्र भी कभी शयनकक्ष में नहीं लगाना चाहिए। शयनकक्ष के साथ अगर शौचालय बना हो तो हमेशा शौचालय का दरवाजा बंद रखें उचित पिरामिड उपकरण से वहां की नकारात्मक ऊर्जा को समाप्त करें| 

मनुष्य को स्वस्थ रहने के लिए 8 घंटे की नींद आवश्यक है| जिससे उचित ऊर्जा मिलती है। जिंदगी में सफलता के लिए अच्छी नींद बहुत जरूरी है इसलिए शयनकक्ष को एकांत एवं साफ सुथरा रखें। अनावश्यक सामान कभी भी न इकट्ठा करें। यह एक कदम जीवन को कलह से सुलह की ओर ले जाता है।

No comments