Display bannar

Breaking News

रक्षाबंधन विशेष : भइया मेरे राखी के बंधन को निभाना इस बार मेरी चोटी को बचाना

आगरा : रक्षाबंधन का त्यौहार भाई बहन के प्रेम एक ऐसा पर्व है जिसका इंतजार बहनो को पुरे साल रहता है।  लेकिन इस बार रक्षाबंधन का त्यौहार दहशत के माहौल में मनाया जा रहा है। पिछले वक हफ्तों से  ताजनगरी में शहर से लेकर देहात तक महिलाओं की चोटी कटने की घटनाएं हो रही है जिसके चलते महिलाएं दहशत में हैं। हर बार महिलाएं रक्षाबंधन के त्यौहार पर अपने भाइयों को राखी बांधकर उनसे अपनी रक्षा का वचन लेती थी लेकिन इस बार यह वचन अपनी रक्षा साथ  अपनी चोटी की रक्षा का भी ले रही है। सुनने में थोड़ा अजीब लग रहा है लेकिन सच है।  स्कूल कालेज की युवतिओं में चोटिकटवा का भय है जिसके कारण वे अन्धविश्वास नहीं बल्कि हकीकत मानकर कल मनाये जाने रक्षाबंधन के त्यौहार में इस प्रकार के वचन मांग रही है।  

चार राज्यों में महिलाओ की चोटी करने की घटनाएं अब दहशत का पर्याय बन चुकी है जिसके चलते 1 दिन बाद पढ़ने वाले रक्षाबंधन का त्यौहार भी इस दहशत भरे माहौल में मनाया जाएगा।ताजनगरी आगरा में पिछले एक हफ्ते में पचास महिलाओ की चोटी कट चुकी है जिनमे 6 साल की छात्रा से लेकर 80 साल की बुजुर्ग  शामिल है। इन घटनाओ से  महिलाएं और युवतियां दहसत में  अपने भाइयों से राखी के बदले उनसे अपनी चोटी की रक्षा करने का वचन ले ले रही है। गीत  के माध्यम से वे अपने भाई को राखी भी बांध रही है। नीरू अपने कालोनी में चोटी की घटना से भयभीत है। 

दिल्ली में पढ़ने वाली शालिनी जो आगरा राखी बांधने के लिए आयी है वो भी अपने भाई से अपनी चोटी की रक्षा का वचन लेने की बात कहि। रजामंदी में अपने भाई के लिए राखी खरीदने आयी अनुष्का ने बताया जिस तरिके की घटनाये हो रही उससे भयभीत होकर उन्होंने अपने भाई से चोटी की रक्षा का वचन लेने का मन बनाया है।  स्कूल में पढ़ने वाली छात्राएं और महिलाएं इस रक्षाबंधन के त्यौहार पर अपने भाइयों से अपनी चोटी  की रक्षा करने का संकल्प लेने का मन बनाया  है। वही भाई भी बहन की इक्छा  को पूरी करने के लिए तैयार हैं।  एक तरफ पुलिस इन घटनाओं को अफवाह बता रही है वही महिलाएं इन घटनाओं से भयभीत हैं और उन्हें पुलिस की बात पर यकीन नहीं है।​

No comments