Display bannar

Breaking News

राज्यसभा की शतरंज पर कौन हैं 'आप' के नए मोहरे



नई दिल्ली : पूर्व कांग्रेस नेता सुशील गुप्ता को आम आदमी पार्टी (AAP) ने राज्यसभा का प्रत्याशी घोषित किया है. सुशील गुप्‍ता दिल्ली में सत्तासीन आम आदमी पार्टी के शेष दोनों प्रत्याशियों नारायणदास गुप्ता और संजय सिंह के साथ संसद के उच्च सदन में पहुंचने वाले हैं. कुछ दिन पहले तक सुशील गुप्ता कांग्रेस के सदस्य रहे हैं. उनके नाम की घोषणा होते ही कांग्रेस के दिल्ली प्रदेशाध्यक्ष अजय माकन ने ट्विटर पर बताया कि सुशील गुप्ता से लगभग सवा महीने पहले ही 'आप' ने वादा किया था कि उन्हें राज्यसभा का सदस्य बनाया जाएगा.

यह भी पढ़ें: आखिर क्यों बाहरी उम्मीदवारों को राज्यसभा भेज रही AAP?

आम आदमी पार्टी दो बाहरी उम्मीदवारों को राज्यसभा भेज रही है जबकि उसके अपने नेता राज्य सभा जाना चाहते हैं. पार्टी से केवल एक नेता संजय सिंह राज्य सभा जा रहे हैं. आखिर ऐसा क्या जिसके चलते आप को से अपनों से अच्छे पराए लग रहे हैं.

आम आदमी पार्टी की PAC की बैठक आज, कुमार विश्‍वास और संजय सिंह को नहीं बुलाया गया

आम आदमी पार्टी की आज पॉलिटिकल अफेयर्स कमिटी की बैठक होगी. सूत्रों के अनुसार, इस बैठक में संजय सिंह और कुमार विश्वास को नहीं बुलाया गया. क्योंकि कुमार विश्वास ने राज्यसभा जाने के अपना दावा ठोका है और संजय सिंह के नाम पर चर्चा होनी है. इस बैठक में राज्यसभा उम्मीदवारों पर फैसला होगा.

1. सुशील गुप्ता- सुशील गुप्ता दिल्ली के बड़े कारोबारी हैं. कुछ समय पहले तक कांग्रेस में थे लेकिन महीना भर पहले कांग्रेस से इस्तीफ़ा दिया है. आप सूत्रों के मुताबिक सुशील गुप्ता के दिल्ली और खासतौर से हरियाणा में 25-30 स्कूल, कॉलेज और अस्पताल हैं. बीते काफ़ी समय से वो शिक्षा और चिकित्सा के क्षेत्र में काम कर रहे हैं और चैरिटी भी कर रहे हैं. सूत्र ये भी बता रहे हैं कि सुशील गुप्ता का हरियाणा में अच्छा नेटवर्क है साथ ही वो वैश्य समाज मे भी अच्छी साख रखते हैं जिससे पार्टी को हरियाणा में अपना बेस तैयार करने में मदद मिलेगी.

राज्यसभा चुनाव के लिए नामांकन के मुद्दे पर आम आदमी पार्टी में सभी एकमत नहीं

2. नवीन गुप्ता- नवीन गुप्ता पेशे से चार्टर्ड अकाउंटेंट हैं और चार्टर्ड अकाउंटेंट की सबसे बड़ी संस्था इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट ऑफ इंडिया के वाइस प्रेसिडेंट हैं. सूत्रों के मुताबिक नवीन गुप्ता बीते करीब डेढ़ साल से आम आदमी पार्टी का आयकर विभाग में केस संभाल रहे हैं. आम आदमी पार्टी फिलहाल फंडिंग में गड़बड़ी के आरोप में आयकर विभाग का आदेश झेल रही है, जिसमें पार्टी को 30 करोड़ रुपये टैक्स देने का आदेश है. पार्टी के आला सूत्र बताते हैं कि किसी भी पार्टी को बड़े वकील और चार्टर्ड अकाउंटेंट की ज़रूरत होती है इसलिए पार्टी ने नवीन गुप्ता का नाम तय किया है.

लेकिन इन नामों पर आम आदमी पार्टी में असंतोष दिखाई दे रहा है. बाहरी लोग अपने नेताओं से किस तरह बेहतर हैं इस सवाल का जवाब पार्टी के नेता और कार्यकर्ता ढूंढ रहे हैं.

No comments