Display bannar

Breaking News

आगरा में बेटियों की शिक्षा और सुरक्षा की उठी माँग...... क्या है मामला पढ़े


आगरा : कांशीराम आवास योजना वासिंदों के लिए मुशीबत का सबब बनती जा रही है। लोग सुविधाओं से वंचित हो रहे हैं। बच्चों की पढ़ाई छूट चुकी है। बेटियां यौन शोषण की शिकार हो रही हैं। बेटियों की समस्याओं को लेकर कांशीराम आवास योजना बी ब्लाॅक की महिलाएं नरेश पारस की अगुवाई में सोमवार को कलक्ट्रेट पहुंची। जहां प्रदर्शन कर सिटी मजिस्ट्रेट को मुख्यमंत्री के नाम आठ सूत्रीय ज्ञापन सौंपा।

वर्ष 2008 में उ0प्र0 सरकार द्वारा मा0 कांशीराम आवास योजना शुरू की गई थी। जिसमें मलिन बस्तियों और झुग्गी-झोपड़ियों में रहने वाले बेघर लोगों को आवास आवंटित किए गए थे। यमुना पार कालिंदी विहार में भी सात ब्लाॅकों में लोगों को मकान आवंटित किए गए थे। ए से लेकर एफ ब्लाॅक बनाए गए हैं। बी, सी, डी, ई, तथा एफ ब्लाॅक के बच्चों के पढ़ने के लिए कोई सरकारी स्कूल नहीं हैं। स्कूल न होने सके सैकड़ों बच्चे शिक्षा से वंचित हैं। यहां स्कूल की बहुत आवश्यकता है। 

महिलाओं और लड़कियों के साथ छेड़खानी की जाती है। कई बच्चियां शोषण की शिकार हो चुकी हैं। बच्चियों को छिपा कर रखा जाता है। विद्यालय दूर होने के कारण बच्चियों को स्कूल भेजने में भी डर लगता है। महिलाएं और लड़कियों को घर से बाहर निकलने में डर लगता है। 

महिलाओं ने कहा कि यदि शीघ्र ही बच्चों की शिक्षा, खराब पड़ी सबमर्सिवल, सीवर चालू, पुलिस की गश्त, अवैध जुआ बंद  समस्याओं का समाधान नहीं किया गया तो उग्र आंदोलन किया जाएगा। प्रदर्शन करने वालों में नरेश पारस, सोनू चैहान, लज्जावती, गीता देवी, बबिता देवी, गुड्डी, सुनीता, कांता, विमला, सुरेन्द्र सिंह, प्रदीप आदि शामिल रहे।

No comments