Display bannar

Breaking News

हिरण्यकश्यप तब मारा गया जब आपस में मिल रहे थे दिन और रात : पं. राजेश शास्त्री


आगरा : हिरण्यकश्यप तब मारा गया जब दिन और रात आपस में मिल रहे थे और वह भी चौखट पर बैठकर। इस तरह ईश्वर के वरदान का भी महत्व रह गया और हिरण्यकश्यप जैसी बुराई का भी नाश हुआ। किंतु अपने नाखूनों से हिरण्यकश्यप का वध करने के बाद भी भगवान नृसिंह का क्रोध शांत नहीं हो रहा था। लाल आंखें और क्रोध लबालब चेहरे के साथ वे इधर-उधर घूमने लगे। ये कहना था बुर्जीवाले मंदिर पर चल रही कथा मे व्यासपीठ से पं. राजेश शास्त्री का | प्रताप नगर स्थित श्री संकटमोचन हनुमान मंदिर (बुर्जीवाला) पर में श्रीमद्भागवत कथा मे तीसरे दिन गुरुवार को बलि-वामन प्रसंग, मोहिनी अवतार एंव प्रहलाद चरित्र की कथा का वर्णन किया गया | कथा के दौरान प्रहलाद, नरसिंघ और हिरणाकश्यप अवतार की झांकी ने भक्तो को खूब आकर्षित किया | कथावचन मे राधे-श्याम के भजनो से पूरा माहौल भक्तिमय हो उठा| कथा के मुख्य यजमान विजय बंसल एंव सुनीता बंसल रहे, वही दैनिक यजमान टिटू गोयल रहे|


व्यास पं. राजेश शास्त्री ने बताया कि किसी भी स्थान पर बिना निमंत्रण जाने से पहले इस बात का ध्यान जरूर रखना चाहिए कि जहां आप जा रहे है वहां आपका, अपने इष्ट या अपने गुरु का अपमान न हो। यदि ऐसा होने की आशंका हो तो उस स्थान पर जाना नहीं चाहिए। चाहे वह स्थान अपने जन्मदाता पिता का ही घर क्यों हो। कथा के दौरान सती चरित्र के प्रसंग को सुनाते हुए भगवान शिव की बात को नहीं मानने पर सती के पिता के घर जाने से अपमानित होने के कारण स्वयं को अग्नि में स्वाह होना पड़ा। भागवत कथा का आयोजन बुर्जी वाले मंदिर संचालन समिति द्वारा कराया जा रहा है जो कि 27 मई तक दोपहर 3 से शाम 6 बजे तक चलेगी। इस अवसर पर मुख्य रूप से ब्रज मोहन बंसल, गौरव बंसल, संदीप गोयल, अजय गोयल, अनूप अग्रवाल, रेनू अग्रवाल, शेफाली बंसल, वंदना अग्रवाल, स्नेहा गोयल, अनिल शाह, बॉबी महाजन, चिंटू आहूजा, वीएस गर्ग, अरुण ढींगरा, रोहित यादव, बॉबी भदौरिया, ब्रज बिहारी उर्फ अज्जू भाई, दिवाकर महाजन, नरेश जिंदल, बबलू बंसल, सतीश अग्रवाल, मनोज मंगल, भरत गर्ग, आदि का सहयोग रहा|

भागवत कथा मे आज
मीडिया प्रभारी विमल कुमार ने बताया कि चौथे दिन गुरुवार को गजेंद्रमोक्ष्य, रामजन्म, रामचरित्र, कृष्ण जन्म और नंदोत्सव का वर्णन किया जाएगा| भागवत कथा निरंतर 27 मई तक दोपहर 3 से शाम 6 बजे तक चलेगी। कथा के समापन पर भक्तों को भोजन प्रसादी वितरित की जाएगी|

No comments